Thursday, April 1, 2010

आओ एक गहरी साँस लें ...

दुनिया की आपा-धापी में
आओ गहरी सी एक साँस लें
इतनी गहरी कि
आँखें ख़ुद-ब-ख़ुद
हो जाएं बंद
मन की सारी
बे-चैनी ... हलचल
हो जाए मंद
और
बजने लगे
अन्दर की ख़ामोशी में
अनहद का छंद
आओ पल भर के लिए कर लें अपनी आँखें बंद....
आओ पल भर के लिए कर लें अपनी आँखें बंद....

5 comments:

Amitraghat said...

अपनी अनुभूतियों को बहुत अच्छे शब्दों में व्यक्त किया......"

सीमा सचदेव said...

ham bhi le rahe hai gahari saas , achchi kavita

Apanatva said...

bhavo kee sunder abhivykti......

संगीता पुरी said...

सचमुच ये बहुत ही अच्‍छा उपाय है !!

rahat said...

Duniya ki is apadhapi men...Kho gayi wo jo ik saans hai..Kar deti thi jo ankhen nam..Hota tha jab dil ko gham..Ukhad rahi hai ik saans wo..Jivan ki hti aas jo..Jaate jaate dilon ko khokhla wo kar gayi..Bhavon ko bhi apne saath lekar gayi..Par us ik "gehri saans" ne..Jivan diya us 'jivan ki aas' ko..Naman karten hain ham ..Apk 'sahityik prayas' ko...