Thursday, March 25, 2010

कभी 'रास्ता मिल जाए'...यही मंजिल होती है .

किसी ने लिखा है कि वो अपने मुकाम को पाना चाहता है ... पर क्या पता जिसे हम मुकाम मान रहे हों ...वो मुकाम हो भी या नहीं । सच तो ये है कि हम में से कोई भी नहीं जानता कि पहुंचना 'कहाँ' है ....या 'कहाँ तक' पहुंचना हैं या कहाँ तक पहुंचा जा सकता है...

आज का कल हम भला कैसे निश्चित कर सकते हैं ! हम आज जिसे मंजिल मानते हैं ... वो हमारे आज की अपेक्षा और सामर्थ्य की सीमा की सीमा होती है। क्या पता कल हमारी सीमाएं यहीं तक रहें या ....। इसीलिए हम दरअसल मंजिल की नहीं राहों की तलाश करते हैं ... और राहों को मंजिल नहीं समझना चाहिए .... और बस बढ़ते रहना चाहिए ....अनन्त की ओर ...

आपका नीलेश

4 comments:

Udan Tashtari said...

राह सही मिल जाये बस इसी की तलाश है...बहुत अच्छी बात कही.

Suman said...

nice

सिद्धार्थ प्रियदर्शी said...

पहुंचना 'कहाँ' है ....या 'कहाँ तक' पहुंचना हैं या कहाँ तक पहुंचा जा सकता है...

चमत्कृत कर दिया इस पंक्ति ने. बिलकुल ठीक कहा आपने कि अक्सर ऐसा होता है कि हम जिसे मंजिल मान रहे होते हैं वह रस्ते का एक मुकाम होता है......

दिगम्बर नासवा said...

सही मंज़िल... सही रास्ते की पहचान आसान नही है ... मिल जाए तो फिर बात ही क्या ...