Thursday, March 3, 2011

रेत के दरिया में पानी नहीं मिलता

कहने को शेख है
पर
पानी को तरसता है
उसके कुँओं से
बस
तेल जो निकलता है...


आपका
नीलेश
मुंबई

5 comments:

brahmesh said...

Kam shabdon mai badi baat samjha di aapne. Kaash har Vaastavik aur kataar mai lage shekh yeh baat samajh jaayein.

Udan Tashtari said...

सो तो है...

pv.kanpur said...

tel se paani to kharid sakte ho par pani se tel nahin.

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

विचारणीय बात :)

दिगम्बर नासवा said...

Aur vo tel se paani khareed leta hai ... door ki baat kahi hai ...