Wednesday, April 13, 2011

मतलब तो परवान पर पाबंदी से है , पिंजरे नहीं हैं तो क्या ... पंख काट दीजिये
- नीलेश
मुंबई

1 comment:

Apanatva said...

ukhade mood me hee aisaa socha jata hai....
kshanik soch hee ho aiseee soch hai meree .

:)